भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ना होना शायद तुम्हारे साथ ना होना है / पाब्लो नेरूदा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ना होना शायद तुम्हारे साथ ना होना है,
बिना तुम्हारे चल पड़ने के, एक नीले फूल की मानिन्द
धूप को चीरते हुए, और फिर आँखों से ओझल हो जाना
पथरीली पगडण्डी से कोहरे के पार,
 
तुम्हारे हाथ में उस दीये के बिना
सिर्फ़ मेरी नज़रों में जो सुनहरा है,
और किसी को पता नहीं
गुलाब की कलियों में से खिल उठा है,

और सबसे बड़ी बात, तुम्हारे होने, तुम्हारे आए बिना
अचानक उमड़कर मेरी ज़िन्दगी को पहचानते हुए
गुलाब के पौधे से, गेंहू की खेत से छनती हवा की तरह :
 
और इसका मतलब कि मैं हूं, चूंकि तुम हो.
तुम्हारे होने से मैं हूं, और हम हैं
और प्यार की ख़ातिर, तुम्हें, मुझे,
हमें, होना है, हम होंगे.

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य