भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निंदिया रानी आ जा / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निंदिया रानी आजा आ
लालन को सुला जा आ

मुन्ना मेरा प्यारा है
इस घर का उजियारा है

निंदिया आ जा जल्दी आ
खीर खिलाऊँ तुझको आ
आ जा निंदिया प्यारी तू
सबकी प्यारी निंदिया तू

लालन तुझे बुलाता है
पलके मुंद बुलाता है

निंदिया रानी आजा आ
मुन्ने को सुलाजा आ

रोते रोते सोया है यह
मुट्ठी में है मेरा आँचल

कोई भी आवाज नहीं हो
बजना मत ओ मेरी पायल

निंदिया रानी आ जा आ
आकार इसे सुला जा आ