भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

निकहते-गुल बहुत इतराती हुई फिरती है / शाद अज़ीमाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


निकहते-गुल[1] बहुत इतराई हुई फिरती है।
वोह कहीं खोल भी दें तुर्रये-गेसू[2] अपना।

निकहते-ख़ुल्देबरीं[3] फैल गईं कोसों तक।
वोह नहा कर जो सुखाने लगे गेसू अपना॥

लिल्लाह हम्द! कदूरत[4] नहीं रहने पाती।
मुँह धुला देता है हर सुबह को आँसू अपना॥

गम में परवाना-ये-मरहूम के[5]थमते नहीं अश्क।
शमअ़! ऐ शमअ़! ज़रा देख तो मुँह तू अपना॥

शब्दार्थ
  1. फूल की गंध
  2. चोटी
  3. जन्नत-जैसी सुगन्ध
  4. द्वेष-भावना
  5. मृतक पतंगे के