भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निज़ामुद्दीन-10 / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मेरे होश में क्यों इतनी गड़बड़ी-सी है ।
ये मेरे जोश में क्यों इतनी हड़बड़ी-सी है ।

ये किसी से जो कहूँ तो भी कहना बाक़ी,
ये मेरी फ़िक्र किस उजाड़ की घड़ी-सी है ।

ये कहीं से जो उठाई तो कहीं रक्खी-सी,
ये कोई बात थी जो यूँ ही क्यों पड़ी-सी है ।

मेरे लिखने पे मेरे यार तेरा क्या लिखना,
वो कोई ज़िद है जो हमसे कहीं बड़ी-सी है ।

ये जो बदली नहीं दुनिया तो मैं बदला-बदला,
वो मेरी शक़्ल किस सियाह में मढ़ी-सी है ।

मेरे होने का हुनर और मेरा ये होना,
क्योंकि छोटी हो बहर नज़्म तो बड़ी-सी है ।

लाल है वो कि ख़ुदाया हुआ दलाल भी है,
शक़्ल हो, अक़्ल हो कि हाल में पढ़ी-सी है ।

मैं निज़ामुद्दीन हुआ और हुआ और हुआ,
वो कोई हद नहीं अनहद की जो कड़ी-सी है ।