भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निज़ामुद्दीन-11 / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू मुझे देखता है क्या कि मैं कुछ बम-सा हूँ ।
तू मुझे देखता है क्यों कि मैं कुछ कम-सा हूँ ।

मैं कहीं हूँ तो कभी हूँ तो कोई भी होकर,
इतना बहता है पसीना तो मैं कुछ नम-सा हूँ ।

वो जो है इत्मिनान और सुकूँ और तराश मैं हूँ,
क्यों इतना अचानक कि मैं कुछ धम-सा हूँ ।

मुझको वो फ़िक्र नहीं क्योंकि मेरा ज़िक्र नहीं,
इतना पीकर भी कहूँ क्योंकि मैं कुछ खम-सा हूँ ।

अब तो ये वक़्त है कि वक़्त कुछ बचा भी नहीं,
मैं अकेला ही सोचता हूँ कि मैं कुछ हम-सा हूँ ।
 
मैं भी देखा किया दरगाह में बैठे-बैठे,
मैं किसी कोने में उखड़ा हुआ बे-दम-सा हूँ ।