भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निज़ामुद्दीन-12 / देवी प्रसाद मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मेरी हसरत का वाक़या है तुम्हारी हसरत भी जान लूँ मैं ।
किसी सड़क पर अगर मिलो तो ये सूखी रोटी ही बाँट लूँ मैं ।

ये किस तरफ़ से निकल पड़े हो बहुत ख़ुशी तो कभी नहीं थी,
जो देखा ऊपर तो देखा नीचे कि कैसे रहते कि छत नहीं थी ।

अभी किसी से कहूँ तो क्या कि कहाँ से मैंने शुरू किया था,
जो हाथ लिखता है वो हाथ मैंने किसी को यूँ ही क्यूँ दे दिया था ।

ये क़िस्सा इतना है जितना जानो ये मेरे हिस्से की रोशनी है,
ये मेरी चादर है, तेरी चादर बहुत पसीने में खूँ सनी है ।