भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निभाई है यहाँ हमने मुहब्बत भी सलीक़े से / सतपाल 'ख़याल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

  
निभाई है यहाँ हमने मुहब्बत भी सलीक़े से
दिए जो रंज़ो-ग़म इसने लगाए हमने सीने से

हमेशा ज़िंदगी जी है यहाँ औरों की शर्तों पर
मिले मौका अगर फिर से जिऊँ अपने तरीके से

न की तदबीर ही कोई , न थी तकदीर कुछ जिनकी
सवालों और ख़यालों मे मिले हैं अब वो उलझे से.

जो टूटे शाख से यारो अभी पत्ते हरे हैं वो
यक़ीं कुछ देर से होगा नहीं अब दिन वो पहले से

घरों से उबकर अब लोग मैख़ाने में आ बैठे
सजी हैं महफ़िलें देखो यहाँ कितेने क़रीने से

"ख़याल" अपनी ही करता है कहाँ वो मेरी सुनता है
नज़र आते हैं उसके तो मुझे तेवर ही बदले से