भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

निरामय / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुटिल भ्रूक्षेप
कितने कुटिल भ्रूक्षेप !

कितना विशृँखल मन
मेरे भीतर से निकलकर
धरती पर पड़ा हुआ है

कितने सन्देह,
कितने अनादर
कितने दावे —

बैठी हो तुम मेरी आँखों के सामने,
सिर्फ़ बैठने मात्र से ही
किस तरह से सारे घावों को
तुमने नीरोग कर दिया है,

मैं यही सोच रहा हूँ ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी