भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींद अपने आप दीवाने तलक तो आ गई / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नींद अपने आप दीवाने तलक तो आ गई
दोस्ती में धूप तह्खाने तलक तो आ गई

जाने अब कितना सफर बाकी बचा है उम्र का
जिन्दगी उब्ले हुये खाने तलक तो आ गई

चाहिये आब और क्या सेहरा नवरदी ये बता
मुझ को वहशत ले के वीराने तलक तो आ गई

देख ले ज़ालिम शिकारी मां की ममता देख ले
देख ले चिडिया तेरे दाने तलक तो आ गई

अब हवा थी इस तरफ की या करम फरमाई थी
जुल्‍फ जाना कम से कम शाने तलक तो आ गई

और कितनी ठोकरें खायेगी तू ऎ जिन्‍दगी
खुदकुशी करने को मयखाने तलक तो आ गई

और कितनी गरम जोशी चाहिए जज्‍बात में
दुश्‍मनी की आंच दस्‍ताने तलक तो आ गई