भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नींद में ही हो जाना प्यार / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नींद में ही हो जाना प्यार
और जागना डबडबाई आँखें लिए

कभी नहीं किया
किसी को इतना प्यार

कभी किसी ने नहीं किया
इतना प्यार मुझे भी

वक़्त नहीं मिला
एक चुम्बन का भी
न ही पूछने का उसका नाम

अब उसके ख़्वाबों में
आँखों ही आँखों में
गुज़रती है मेरी हर रात

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल