भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीग्रो ने बताया नदियों के बारे में / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने नदियों को जाना :
मैंने जाना उन नदियों को
जो हैं दुनिया की तरह प्राचीन और
मानव की शिराओ में बहने वाले
रक्त के प्रवाह से भी अधिक पुरातन।

मेरी आत्मा नदियों की तरह गहन हो गई है।

मैंने यूफ्रेटिस में स्नान किया
जब हुई थी सुबहों की शुरू‏आत।
मैंने कांगो के निकट बनाई अपनी झोपड़ी
और उसने सुलाया मुझे लोरियाँ सुनाकर।
मैंने नील को देखा और बनाए वहाँ पिरामिड।
मैंने सुना मिसीसिपी को गाते हुए
जब ए० बी० लिंकन गए थे न्यू-ओर्लियन्स और
सूर्यास्त के समय मैंने देखा इसके मटीले तट को
पूरी तरह तब्दील होते स्व‌र्ण में।

मैंने नदियों को जाना :
प्राचीन और श्यामल नदियाँ।

मेरी आत्मा नदियों की तरह गहन हो गई है।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’