भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीग्रो / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं हूँ नीग्रो :
      काला जैसे हो रात का कालापन,
      काला जैसे मेरे अफ्रीका का गहन प्रान्तर।

मैं रहा गुलाम :
      सीजर ने मुझे अपनी दहलीज की सीढ़ियाँ साफ़ करने को कहा।
      मैंने वाशिंगटन के जूते पोंछे।

मैं रहा मज़दूर :
      मेरे हाथों से बने पिरामिड।
      मैंने वूलवर्थ बिल्डिंग के लिए तैयार किया गारा।

मैं रहा गायक :
      अफ़्रीका से जार्जिया तक
      मैं ले गया अपने दुख भरे गीत।
      मैंने रचा लोकप्रिय संगीत।

मैं रहा पीड़ित :
      बैल्जियमवासियों ने काँगो में काट दिए मेरे हाथ।
      वे मिसीसिपी में अब भी मुझे देते हैं जबरन फाँसी।

मैं हूँ नीग्रो :
      काला जैसे हो रात का कालापन,
      काला जैसे मेरे अफ़्रीका का गहन प्रान्तर।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’