भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नीम खण्ड बिराजे देवी कालिका / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

नीम खण्ड बिराजे देवी कालिका
आजु भवानी के सुमिरन कय ले
सोना के आसन, रतन सिंहासन, मइया के आनि बैसा दे
देवी कालिका, नीम...
सोनाक थार, छत्तीसो मेवा, काली के भोग लगा दे
देवी कालिका, नम...
सोनाक झारी, नीर गंगाजल, काली के चरण पखारे
देवी कालिका, नीम...
सोनाक थार, करपूरक बाती, कालीक आरती उतारे
नीम खंड बीच बिराजे देवी कालिका