भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नुंवै बरस माथै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेवड़ा उतरती भींत माथै
लटकायो जद नुवो कलेंडर
छाती सांमै आय र ऊभग्या
       तीन सौ पैंसठ दिन

म्हारी
नित छुलती सांस जाणै
कियां कटै-
एक-एक दिन

लारलै बरस
ना होली-दियाळी लापसी
ना सावण में सातू
रूतां बदळी
अर म्हैं भुगत्या फळ

मुट्ठी भर लोगां री
फाक्यां में आयोड़ो
हरामी रो हाड हरख
कदै नीं ऊभ्यो आय र म्हारै आंगणै

आज सूं भळै
म्हैं हूं
अर सांमै है
ऐ तीन सौ पैंसठ दिन !