भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नेक इलाज / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीग गया वर्षा में रीछ,
आई तभी छींक-पर-छींक।
हुआ तेज सरदर्द, जुकाम,
खूब मली तब उसने ‘बाम’।

किया दोक्टर ने जब चेक,
नेक इलाज बताया एक-
‘मिट जाए सारा जंजाल,
कटवा लो यदि अपने बाल’।
      [रचना: 22 जून 1998]