भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नैया लेनें आवोॅ रे मलाहा / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बहियां उड़ेली शीतल माय-मलाहा केॅ पारै हे हाँक।2
नैया लेलह आवोॅ रे मलाहा, यमुनमा होवै रे पार।
फूटी गेलै नैया शीतल माय, टूटलोॅ पतवार।
कौनी विधि उतरव हे माता-यमुनमा होवोॅ रे पार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा, जोड़ैवै पतवार
वही चढ़ी उतरव रे मलाहा, यमुनमा होवै रे पार।
बहियां उड़ेली मालत माय, मलाहा केॅ पारै हे हांक।2
नैया लेलह आवैं रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
फूटी गेलै नैया मालतो माय- टूटलै पतवार।
कौनी विधि उतरव हे माता- यमुनमा होवेॅ रे पार।2
बहियां उड़ेली धनसरो माय- मलाहा केॅ पारै हे हाँक।2
नैया लेलह आवोॅ रे मलाहा, यमुनमा होवै रे पार।
फूटी गेलै नैा धनसरो माय- टूटलै पतवार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा- जोड़ैवै पतवार।
वही चढ़ी उतरव रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
कौनी विधि उतरव हे माता- यमुनमा होवेॅ रे पार।2
फूटी गेलै नैया धनसरो माय-टूटलै पतवार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा- जोड़ैवै पतवार।
वही चढ़ी उतरव रे मलाहा, यमुनमा होवै रे पार।
बहियां उड़ेली फूलसरो माय- मलाहा केॅ पारै हे हांक।
नैया लेलह आवोॅ रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
फूटी गेलै नैया फूलसरो माय- टूटल पतवार।
कौनी विधि उतरव हे माता- यमुनमा होवोॅ रे पार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा- जोड़ैवै पतवार।
वही चढ़ी उतरव रे मलाहा, यमुनमा होवै रे पार।
बहियां उड़ेली कालिका माय- मलाहा केॅ पारै हे हांक।
कौनी विधि उतरव हे माता- यमुनमा होवोॅ रे पार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा- जोड़ैवै पतवार।
वही चढ़ी उतरव रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
बहियां उड़ेली सभाई माय- मलाहा केॅ पारै रे हांक।
नैया लेलह आवोॅ रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
फूटी गेलै नैया सभाई माय- टूटल पतवार
कौनी विधि उतरव हे माता- यमुनमा होवोॅ हे पार।
जोड़ी लेवै नैया रे मलाहा- जोड़ैवे पतवार।
वहीं चढ़ी उतरव रे मलाहा- यमुनमा होवै रे पार।
फुटलोॅ जे काँसा रे मलाहा- कसेरिया घर रे जाय।
रूसलोॅ सवासिन रे मलाहा- नैहरवा चली रे जाय।