भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न्यूयार्क के लिए एक क़ब्र-4 / अदोनिस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न्यूयॉर्क
ओ, हवा के मेहराब पर दुबकी हुई औरत,
एक अणु से भी सुदूर एक आकृति,
संख्याओं के अन्तरिक्ष में टहलता एक बिन्दु
तुम्हारी एक जाँघ हवा में, दूसरी पानी में,
बोलो तुम्हारा सितारा कहाँ है । घास और
इलेक्ट्रॉनिक दिमागों के बीच होने वाला युद्ध
नज़दीक आ रहा है । समूची ज़िन्दगी टँगी हुई है
एक दीवार पर, और यह रहा रक्तस्राव । शिखर पर एक सिर है
जोड़ता हुआ दोनों ध्रुवों को, बीच में एशिया है
और सबसे तले एक अदृश्य शरीर के पैर ।
मैं जानता हूँ तुम्हें, ओ, पोस्ते की महक में तैरते शव,
मैं जानता हूँ तुम्हें, ओ, स्तन और स्तन के खेल । मैं तुम पर निगाह डालता हूँ
और बर्फ़ का सपना देखता हूँ, तुम पर निगाह डालता हूँ और शरद का इन्तज़ार करने लगता हूँ ।
तुम्हारी बर्फ़ रात को लाद कर ले जाती है, तुम्हारी बर्फ़ लोगों को लाद कर ले जाती है
जैसे वे मरी हुई चमगादड़ हों । तुम्हारे भीतर की हर दीवार एक क़ब्रगाह है, हर दिन
एक काला खान मजूर
एक काली डबलरोटी एक काली तश्तरी ले जाता हुआ
और उनके साथ षड्यन्त्र करता रहता है व्हाईट-हाउस का इतिहास ।

अ । ये कुत्ते हैं जो हथकड़ की तरह आपस में जुड़ जाते हैं. बिल्लियाँ हैं
जो हैलमेटों और ज़ंजीरों की सन्ततियाँ उपजाती हैं । और गलियारों में
छिप कर घात लगाती हैं चूहों पर, गोरे पहरेदार
कुकुरमुत्तों की तरह प्रजनन में व्यस्त रहते हैं ।

आ । एक औरत अपने कुत्ते के पीछे पीछे चलती है; उस पर किसी घोड़े की-सी
जीन कसी हुई है और वह किसी सम्राट की तरह चल रहा है ; उसके गिर्द
सारा शहर उसके चरों तरफ रेंगता है जैसे आंसुओं की सेना हो । और जहाँ
बच्चे और बूढ़े काली त्वचा के एक ढेर से ढँके हुए हैं, गोलियों की निष्कपटता
बढ़ती जाती है घास की तरह और आतंक हमला करता है
शहर के सीने पर।

इ। हार्लेम – बेडफोर्ड स्टाईवेसाण्ट : मीनार-दर मीनार
जमती जाती है लोगों की रेत. चेहरे बुनते हैं समय को ।
बच्चों के वास्ते दावत है जूठन, चूहों के लिए दावत हैं बच्चे … सतत चलते रहने वाले
उत्सवों के वास्ते एक और त्रयी : टैक्स कलेक्टर -– पुलिसवाला –-
न्यायाधीश । सब कुछ भकोस लेने का अधिकार, विध्वंस की तलवार ।

ई। हार्लेम (काले लोग नफ़रत करते हैं यहूदियों से)
हार्लेम (काले लोग अरबों से नफ़रत करते हैं, जब उन्हें याद आता है ग़ुलामों का व्यापार)
हार्लेम -– ब्रॉडवे (घोंघे बन कर लोग प्रविष्ट होते हैं अल्कोहल और नशे के भभके में)
ब्रॉडवे -– हार्लेम, ज़ंजीरों और लाठियों का एक मेला और पुलिसिये हैं
समय के कीटाणु । एक गोली, दस कबूतर । लाल बर्फ़ के साथ लहराते बक्से हैं
आँखें और समय एक लंगड़ाती बैसाखी ।
थकान के वास्ते, ओ बूढ़े नीग्रो, ओ शिशु नीग्रो ।
थकान के वास्ते, बार-बार, बार-बार ।