भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न कमरा जान पाता है न अंगनाई समझती है / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न कमरा जान पाता है, न अँगनाई समझती है
कहाँ देवर का दिल अटका है भौजाई समझती है

हमारे और उसके बीच एक धागे का रिश्ता है
हमें लेकिन हमेशा वो सगा भाई समझती है


तमाशा बन के रह जाओगे तुम भी सबकी नज़रों में
ये दुनिया दिल के टाँकों को भी तुरपाई समझती है

नहीं तो रास्ता तकने आँखें बह गईं होतीं
कहाँ तक साथ देना है ये बीनाई [1]समझती है

मैं हर ऐज़ाज़[2]को अपने हुनर[3]से कम समझता हूँ
हुक़ुमत[4]भीख देने को भी भरपाई समझती है

हमारी बेबसी[5]पर ये दरो-दीवार रोते हैं
हमारी छटपटाहट क़ैद-ए-तन्हाई समझती है

अगर तू ख़ुद नहीं आता तो तेरी याद ही आए
बहुत तन्हा हमें कुछ दिन से तन्हाई समझती है

शब्दार्थ
  1. दृष्टि
  2. पुरस्कार
  3. निपुणता
  4. शासन
  5. लाचारी