भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न कुछ, तुम एक चित्र हो / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न कुछ, तुम एक चित्र हो
रंगों से उभर आए अंगों का
जवान
      जादुई
          जागता
मन पर मेरे अंकित
मेरे जीवन की परिक्रमा का
अशान्त
      अतृप्त
          अनिवार्य
रंगीन विद्रोह ।