भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न जाने क्यों / सूर्यदेव सिबोरत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याददाश्त ने
मुझे धोखा दिया है
न जाने क्यों !

मैं
खुद को भूल गया हूं
न जाने क्यों !

अब तो
बन गया हूं मैं
अपने ही लिए
एक अजनबी
न जाने क्यों !

मौत ने भी
ठुकरा दिया है मुझे
न जाने क्यों !
तुम्हारा मुझे ठुकराना
एक बहाना था महज़
न जाने क्यों !