भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न दरिया है न अब कच्चे घड़े हैं / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न दरिया है न अब कच्चे घड़े हैं
वो मंज़र हैं तो शीशों में जड़े हैं

बताया हम को पल-पल ढलती शब ने
हम अपनी उम्र से कितने बड़े हैं

उपज के मुन्तजिर रहियो कोई दम
इसी धरती में सब जौहर गड़े हैं

तुम्हीं तुम सामने आते रहे हो
हम अपने आप से कितना लड़े हैं

उसूलों को निभाने का यही हश्र
मकीं गुम है मकाँ सोये पड़े हैं