भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न फ़रमाओ, "नहीं है आदमी में ताबे-नज़्ज़ारा" / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



न फ़रमाओ, "नहीं है आदमी में ताबे-नज़्ज़ारा"।
सँभल जाओ अब उठती है निगाहे-नातवाँ मेरी॥

मेरी हौरत पै वो तनकी़द की तकलीफ़ करते हैं।
जिन्हें यह भी नहीं मालूम नज़रें हैं कहाँ मेरी॥