भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

न लेवे गर ख़स-ए-जौहर तरावत सबज़-ए-ख़त से / ग़ालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न लेवे गर ख़स-ए-जौहर तरावत सब्ज़ा-ए-ख़त से
लगावे ख़ाना-ए-आईना में रू-ए-निगार आतिश

फ़रोग़-ए-हुस्न से होती है हल्ल-ए-मुश्किल-ए-आशिक़
न निकलते शम्अ के पा से निकाले गर न ख़ार आतिश