भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पग-पग पर ढहने की आदत खो गई अब तो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पग-पग पर ढहने की आदत खो गई अब तो।
सुनो, सच कहने की आदत हो गयी अब तो।

ये सुविधाएं अलग न कर सकेंगी मुझे उनसे,
रगों में बहने की आदत हो गयी अब तो।

कोने में छिपकर रोया नहीं जाता मुझसे,
सरेआम कहने की आदत हो गई अब तो।

फुटपाथ पर नहीं आया बस तभी तक डर था,
तूफां से लड़ने की आदत हो गयी अब तो।

गया वक़्त जब दवाओं की थी जरूरत हमें,
हर दर्द सहने की आदत हो गई अब तो।