भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पण आज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैलड़ी रात रै सुख दांई
हाल तांई याद है
बै अदीतवार
बा गपशप
बा मान-मनवार

भायलां नै देख
हरखता भायला
केई दिन हुयां
जावणो ई पड़तो
आवण लागती हर
पण आज
जे अदीतवार हुवै तो
किणी रै घरां जावतां
        लागै डर !