भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पण हुई आ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगै सारू अंधारै में नीं आखड़णो पड़ै
इण खातर घर सूं नीसरियो
सोधण नै उजास
पण हुई आ
कै जद रस्तै में चखायो लोगां
ताजी रोटी रो गरमास
अर भरवां डील रो चिकणास
तो भूलग्यो कै नीसरियो हूं
सोधण नै उजास
बठै बां री फाक्यां में आय’र बणाय लियो
अंधारै नै ई भायलो खास !