भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पता नहीं / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर साल बारिश में
खिसकते हैं पहाड़
और वह दब जाती है।
बरसात खत्म होने पर
मलवा हटता है
और वह निकलती है
पहले से कमजोर होकर।
जाड़ो की वर्फ में
आग जलाती है
और
गर्मियों में
जलते जंगलो के बीच
खुद झुलस जाती है।
बदलते मौसमों के बीच
छिटक रहे है पहाड़
और वह सिकुडती जा रही है
लगातार।
इस बार बरसात में
फिर खिसकेंगे पहाड़
और एक बार फिर
वह
दब जाएगी।
हर बार की तरह मलवा हटाने पर
वह मिलेगी या नहीं
पता नहीं...