भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पतिब्रता पति मिली है लग / दरिया साहब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पतिब्रता पति मिली है लग, जहँ गगन-मँडल में परमभाग॥
जहँ जल बिन कँवला बहु अनंत, जहँ बपु बिनु भौंरा गुंजरंत।
अनहद बानी जहँ अगम खेल, जहँ दीपक जरै बिन बाती तेल॥
जहँ अनहद-सबद है कहत घोर, बिनु मुख बोले चात्रिक मोर।
जहँ बिन रसना गुन बदति नारि, बिन पग पातर निरतकारि॥
जह~म जल बिन सरवर भरा पूर, जहँ अनंत जोत बिन चंद-सूर।
बारह मास जहँ रितु बसंत, धरैं ध्यान जहँ अनँत संत॥
त्रिकुटी सुखमन जहँ चुवत छीर, बिन बादल बरसौ मुक्ति नीर।
अमरत-धारा जहँ चलै सीर, कोई पीवै बिरला संत धीर॥
ररंकार धुन अरूप एक, सुरत गही उनहीकी टेक।
जन 'दरिया' बैराट चूर, जहँ बिरला पहुँचे संत सूर॥