भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पत्थर / हावियर हिरॉद / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठण्डे पत्थर
सोलेम पत्थर
अगर तुम बोल सकते हो
मेरी तरफ़ से

अगर तुम गा सकते हो
अपनी ढलान पर
अगर तुम अपना जीवन
एक चौड़ी नदी के बीच में गँवाने को तैयार हो
अगर तुम सारी दुनिया के लिए
शान्ति लाना चाहते हो
अगर तुम
स्वच्छ जल में डूबने के लिए तैयार हो

तो तुम्हारी आत्मा
मेरे भीतर होगी
चाहे काला अन्धेरा ही
सामने क्यों न हो
मेरे सफ़ेद हो रहे बाल
तुम्हें अपनी बाँहों में भर लेंगे

मूल स्पानी से अनुवाद : अनिल जनविजय