भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पद / 1 / राजरानी देवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मृग-मन हारे मीन खंजन निहारि वारे,
प्यारे रतनारे कजरारे अनियारे हैं।
पैन सर धारे कारी भृकुटि धनुष-वारे,
सुठि सुकुमारे शोभा सुभग सुढार हैं॥
कैधौं हैं जलज कारे कैधौं ये त्रिगुण युक्त,
चन्द्रमा पै चंचला के चपल सितारे हैं।
‘राम प्रिया’ रामजन-रजन अँगारे कैधौं,
जनक-किशोरी बाँके लोचन तिहारे हैं॥