भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विनयावली / तुलसीदास / पद 61 से 70 तक / पृष्ठ 5

Kavita Kosh से
(पद 61 से 70 तक / तुलसीदास / पृष्ठ 5 से पुनर्निर्देशित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पद संख्या 69 तथा 70

(69),

सुमिरू सनेहसों तू नाम रामरायको।
संबल निसंबलको, सखा असहायको।1।

भाग है अभागेहूको, गुन गुनहीनको।
 गाहक गरीब को, दयालु दानि दीनको।2।

कुल अकुलीनको, सुन्यो है बेद साखि है।
पाँखुरेको हाथ-पाँय, आँधरेको आँखि है।3।

माय-बाप भूखेको, अधार निराधारको।
 सेतु भव-सागरको, हेतु सुखसारको।4।

पतितपावन राम-नाम सो न दूसरेा।
सुमिरि सुभूमि भयो तुलसी सो ऊसरा।5।

(70),
भलो भलो भाँति है जो मेरे कहे लागिहै।
मन राम-नामसों सुभाय अनुरागिहै।1।

राम-नामको प्रभाउ जानि जूड़ी आगिहै।
सहित सहाय कलिकाल भीरू भागिहै।2।

राम-नामसों बिराग, जोग, जम जागिहै।
बाम बिधि भाल हू न करम दाग दागिहै।3।

 राम-नाम मोदक सनेह सुधा पागिहै।
पाइ परितोष तू न द्वार द्वार बागिहै।4।

राम-नाम काम-तरू जोइ जोइ माँगिहै।
तुलसिदास स्वारथ परमारथ न खाँगिहै।5।