भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पधारो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पधारो
गाजै-बाजै पधारो !

गळी-गळी
प्रीत-रळी
कंठ-कंठ
मिश्री डळी
     अड़ी में
अंढ़ा सुधारो  !
मन-कळी
जावै खिल
जठै-जठै
बैठां मिल
सुण बात
    देवो हुंकारो !
ओप-उजास
मिलै आंख
आभो देख
खुलै पांख
जठै दीसै
कांटा बुहारो !