भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परदै माथै रामजी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जद सूं
आवण लाग्या है
परदै माथै रामजी
आठ सूं साठ तांई
सगळां नै
उणा सूं ई काम जी

थारी-म्हारी सुख-सीता नै
दाब्यां बैठा है
घर-घर छोटा-मोटा रावण
पण
उणानै मारणिया राम कठै ?

जद परदै माथै आवै राम जी
घर-गळी-गांव-शहर रा
रावण नमावै शीश –
थे हो म्हारां रामजी !
म्हांरा व्हाला रामजी !
म्हारां रूखाळा रामजी !
नित आया करो रामजी !
जय हो थांरी रामजी !!