भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परबत पर इक फूल खिला है / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परबत पर इक फूल खिला है
देखें वो किस को मिलता है

तन्हाई से चल कर पूछें
सन्नाटा क्या सोच रहा है

सूरज मेरे पीछे लेकिन
मेरे आगे कौन खड़ा है

इक सूखा आवारा पत्ता
जाने किस को ढूंढ रहा है

हर इक दिल में शौक़ शिगुफ़्ता
हर सर पर आसेबे अना है

रस्ते की सूनी आँखों में
दर्द का दरिया डूब रहा है

फैल रहा है शहरों शहरों
सन्नाटा कोहराम हुआ है

जाने कौन है मेरे जैसा
मेरे ही घर में रहता है