भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परम प्रतापी श्री बृजेन्द्र महाराज धन्य / नाथ कवि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परम प्रतापी श्री बृजेन्द्र महाराज धन्य,
आपके बड़ेन ही ने दिल्ली सर कीनी है।
मार-2 मुगलन कों धूरमें मिलाय दीनों,
सैंन ही में सैंन होत बीर रस भीनी है॥
बारह वर्ष भूरे भेड़ियान सों मचायो जंग,
मेंट बादशाही जाटशाही कर दीनी है॥
मार-मार मेवन कों बृज को बचायो ‘नाथ’
हिन्दुन की लाज आज तेंही रख लीनी है॥