भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिखा / जय गोस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेतों के बीच अचानक,
परिखा-- भस्म का काठ, भट्ठे का गड्ढा!

गाँव-गाँव उड़ते हैं काक,
झाँककर फुर्र हो जाती है गौरैया!

खुदे हुए गड्ढे में मुट्ठियाँ बांधे,
काठकोयला हुई, जली-झुलसी देह लिए,
टकटकी लगाए, देख रही है हमारी ओर
हमारी ही बहन-- तापसी मालिक!

बांग्ला से अनुवाद : सुशील गुप्ता