भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिभाषा से परे / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मेरे तुम क्या ?
अपरिभाषित ही
रहे सदा से
अनुराग रचा जो
जुड़ा है नाता
समा नहीं पाता वो,
तुमको पाया
ऊपर सदा उनसे।
केवल प्रेम
अंतर्धारा तुम्हारी
छू उर -तट
अनवरत बहे
यही कहती-
जन्म -जन्मान्तर से
विधि ने रचा,
जो सम्बन्ध हमारा
परिभाषा से परे।