भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

परिवर्तन / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीर्घ श्वास की लघु ताल पर
धीमे-धीमे जीवन की लय पर
खोता चला गया कहीं
उसका निश्छल-सुंदर-सा मन
एक था उसका कोमल अंतःकरण
क्या मिल गया उसे पाकर यौवन
जिसके प्रकट होने पर
उलझता गया मन
सुख-समृद्धि की परिभाषा में
धन-वृद्धि की अभिलाषा में
एकत्र करना चाह रहा था
असीम भौतिक सुख-साज
भूल गया वह तुतलाना
माँ की गोदी में सिर रखकर सो जाना
जिस सुख के समक्ष सारे सुख हैं निरर्थक
कुर्सी, धन, मान प्रसिद्ध नाम का यद्यपि सुख।