भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पर्यावरण जागरूकता विमर्श सह अंगिका बाल काव्य गोष्ठी, गोदरगाँवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

14 अक्तूबर 2017 को विप्लवी पुस्तकालय गोदरगाँवा में कविता कोश के तत्वावधान में पर्यावरण संरक्षण एवं स्वच्छता विषय पर गोष्ठी सह काव्य पाठ हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता शिक्षक रामबहादुर यादव और संचालन मनोरंजन विप्लवी ने किया। मुख्य वक्ता राहुल शिवाय और मुख्य अतिथि अमित रंजन भारती थे। आमीर आलम, राकेश कुमार, अनिमेष कुमार सहित गोदरगांवा हाई स्कूल के बच्चों ने अपनी-अपनी प्रस्तुति दी।

Kavitakosh-godarganva-14Oct2017-5.jpeg

वक्ता राहुल शिवाय ने पर्यावरण से जुड़ी समस्याओं को सामने रखते हुए कहा, 'मनुष्य जब तक प्रकृति की ओर नहीं लौटेगा तब तक भूकंप और बाढ़ जैसी आपदाएँ आती रहेंगी।' राहुल शिवाय ने कविता के माध्यम से कहा-

पैतै हो केना कहोॅ, अगला पीढ़ी फूल
मनुख विकासोॅ के लेली, रोपै रोज बबूल

Kavitakosh-godarganva-14Oct2017-4.jpeg

इस अवसर पर श्री मनोरंजन विप्लवी ने कहा कि दीवाली खुशियों का पर्व है, इसे प्रदूषण का कारण नहीं बनने दें। अमित रंजन जी ने कहा जब तक नई पीढ़ी सजग नहीं होगी पर्यावरण संतुलन संभव नहीं है। रामबहादुर यादव जी ने पर्यावरण को स्वच्छ रखने हेतु बच्चों को जागरुक किया।

Kavitakosh-godarganva-14Oct2017-3.jpeg

पर्यावरण पर बोलने तथा काव्य पाठ के लिए वर्ग दशम की छात्रा मनीषा कुमारी, वर्ग नवम के आदित्य कुमार, वर्ग अष्टम की गौरी कुमारी, रिषी कुमार, संदीप कुमार, प्रिंस कुमार, वर्ग सप्तम की आरती कुमारी, राहुल कुमार को डा. अमरेन्द्र द्वारा रचित अंगिका काव्य पुस्तक 'तुक्तक-मुक्तक' और 'एक छड़ी पर अंडा नाचै' पुरस्कार स्वरूप भेंट स्वरूप दी गई।

धन्यवाद ज्ञापन शमशेर आलम के द्वारा किया गया।