भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पलाश के फूल / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन पलाश के फूलों की यादें अभी भी ताजा है
दिल में
बसंत की अगुवाई करते
केसरिया रंग बिखेरते
क्या धरती
क्या आसमान
तुम्हारे घर के बागीचे में तो पलाश के पेड़ों की भरमार थी
तुम्हें याद है कैसे हम पलाश के फूलों को चुन कर
होली के रंग बनाने की असफल कोशिश करते?
हमारे हाथ केसरिया रंग जाते
क्या अब भी वह पलाश के पेड़ वहाँ खड़े हैं?
क्या अब भी उनमें फूल उगते हैं?
क्या अब भी तुम उन्हें चुनती हो?
तीस बरस हुए है
अब तो उन्हें काट गिराया होगा...