भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पळको / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोळै बरसां तांई
आकरै तावड़ै में ऊभो रैवणो
आ उम्मीद लियां
कै एक दिन तो
पंखै हेठै कुरसी
मिलैला ई !