भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पश्चिम की स्त्री-2 / राजशेखर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खेल का
करना संचार
तरंग में लहराती
भ्रूलेखा दिखाना
रम्य मुद्रा में ठहर जाना

अनादर से अर्पित मान की
भंगिमा में बोलते जाना
प्रेम में करना बतकही
अंग-अंग अर्पित कर
सुन्दर रूप में रमना

उज्जयिनी की
जनियों के तज कर
आता नही है
हर किसी को

मूल संस्कृत से अनुवाद : राधावल्लभ त्रिपाठी