भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहचान लो / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह जो तुम्हारी रक्षा के लिए
किया गया तैयार है ;
वही तुम्हारी मौत का
सच में जिम्मेवार है।
कल जो तुम लूटे गये थे,
बेतरह पीटे गये थे,
बात सारी जानकर भी,
चुप जो पहरेदार था ;
अभी भी पहचान लो
यह वही बटमार था,
बराबर का हिस्सेदार था।
मत भूलो, मेरे मीत इसे ;
यह वही कंस दरवार है
जिसकी महिमा अपरमपार है।