भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहचान / बालकृष्ण काबरा ’एतेश’ / ओक्ताविओ पाज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर्कश ध्वनि एक पक्षी की आँगन में
कोई सिक्का मानो पिगी बैंक में।

अपने हवादार पंख फैलाती
और अचानक गायब हो जाती।

स्यात्‌ न कोई पक्षी, न आदमी वहाँ
हूँ मैं जिस आँगन में जहाँ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’