भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहर पर पहर भर / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहर पर पहर भर
संघर्ष के पश्चात
अफीमची अँधेरे की अँगुलियों से फिसल
उझके हुए
सूरज सरीखे हम
स्वरानी चोंच-कूहें
चिटखिटाती
पंखुरियों की पखावज
एक झीनी सी सरोदी गूँज भँवरों की-
हमारे
आगमन की सूचनाएँ
धूप पोरों से पखारी
तैरती ही जा रही
विस्तार के वातावरण में
दृष्टि बाँधे दूर अन्तों से
पड़ावों को अदेखा कर
उड़ी ही उड़ी जा रही
हमारी ये साँसें-क्रियाएँ !