भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहली वर्षा / पूरन मुद्गल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौसम की पहली वर्षा पर
कुछ तुम लिखो
इससे पहले
बूँदें कुछ बेहतर लिख जातीं
अक्षर-अक्षर जोड़-जोड़ कर
धरती की कोरी तख़्ती पर
बूँदों ने हरियाली लिख दी

धरती की सोई सोंधी ख़ुशबू
उठ बैठी ले अंगड़ाई
चातक का सस्वर स्वाति-पाठ
वन-प्रान्तर का आतप हरती
शीतल फुहार

पहली जलधारा के स्वागत में
मल्हार राग के स्वर जागे
वीणा झंकृत
नाना रंगों के स्वप्न
हुए साकार ।