भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ी हवा / ऊलाव हाउगे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ऊलाव हाउगे  » पहाड़ी हवा

तुम ठण्डी कठोर पहाड़ी हवा थीं।
तब एक अँधेरा पर्दा उठ खड़ा हुआ
और उसने तुम्हारी ताकत को बिखेर दिया। मृत्यु!
अब तुम रेंगती हो -- एक पराजित हवा
गुनगुनी ढलानों के साथ-साथ।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : रुस्तम सिंह