भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ पर चढ़ना / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ पर चढ़ने के लिए
पीठ झुकाकर चलना पड़ता है
देखना पड़ता है
जमीन को
पर
आँख चोटी पर गढ़ी रहती है।
ऊँचाई का अंदाज लगाकर
खर्च करनी पड़ती है
अपनी ताकत
इस तरह
कि वह बनी रहे लगातार
बच सके चोटी पर पहुँचने तक
और
उसके बाद भी।
पहाड़ की ऊँचाई पर
संभालना पड़ता है खुद को
क्योंकि
पहाड़ो के नीचे
गहरी खाइयाँ होती है।