भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ / मंगलेश डबराल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ पर चढ़ते हुए

तुम्हारी साँस फूल जाती है

आवाज़ भर्राने लगती है

तुम्हारा क़द भी घिसने लगता है


पहाड़ तब भी है जब तुम नही हो ।


(रचनाकाल :1975)