भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पहाड़ / शरद बिल्लौरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगे देखता हूँ,
पीछे देखता हूँ।

दाएँ देखता हूँ,
बांएँ देखता हूँ।

ऊपर देखता हूँ,
नीचे देखता हूँ।

तुम ही तुम हो,

पहाड़,
तुम ही तुम हो।